स्वस्थ जीवन के लिए ज़रूरी है एक बेहतर दिनचर्या, आइये जानते है सूर्योदय से सूर्यास्त तक एक आदर्श दिनचर्या कैसी होनी चाहिए…
दिन की शुरुआत में सबसे पहले बिना कुल्ला या बिना मुंह धोये (बासी मुंह) दो से तीन ग्लास गुनगुना पानी पीना चाहिए ।
नित्यकर्म से निवृत होकर सुबह आत्मशुद्धि के लिए योग करना चाहिए ।
सुबह उठने के एक घंटे बाद शुरुआत फलो के रस से करे ।
सुबह का भोजन 7 बजे से 9 बजे तक करना चाहिए, भोजन में पौष्टिक आहार जैसे फल, रोटी, चावल, सब्जी, दाल, गुड आदि होना चाहिए । जठराग्नि सुबह 7 से 09:30 बजे तक सूर्योदय से 02:30 घंटे तक सबसे तीव्र होती है।
दोपहर का भोजन 1 से 2 बजे तक करना चाहिए, दोपहर में छाछ या फलो का रस जरूर पिये और शाम का भोजन 5 से 6 बजे तक करना चाहिए।
सुबह भरपूर भोजन करना चाहिए, दोपहर का भोजन सुबह से कम और शाम का भोजन दोपहर से कम होना चाहिए ।
सूर्यास्त के 40 मिनट पहले भोजन करे और रात्रि में गाय का दूध अवश्य लेना चाहिए ।
भोजन के अंत में पानी पीना विष के समान है, भोजन करने के कम से कम 48 मिनट पहले पानी पिये और भोजन के डेढ़ से दो घंटे बाद पानी पीना चाहिये। भोजन के अंत में एक-दो घूँट पानी गला साफ करने के लिए पी सकते है। पानी जब भी पिये घूँट-घूँट करके पिये।
भोजन के बाद 10 मिनट वज्रासन में बैठना चाहिये।
सुबह और दोपहर के भोजन के बाद 20 मिनट अवश्य लेटना चाहिये। (विष्णु मुद्रा में सोये)
शाम के भोजन के बाद कभी आराम नहीं करना चाहिये शाम के भोजन के बाद 1 किलोमीटर (500 कदम से 1000 कदम) अवश्य और धीरे चले ।
रात का भोजन सोने से कम से कम 02-02:30 घंटे पहले कर ले।
.
Source : स्वस्थ शरीर सुखी जीवन (राजीव दीक्षित)
Share this Article
Go Top
Translate